Shayari

एहसान रहा इल्ज़ाम लगाने वालों

किसी ने हमसे कहा, इश्क़ धीमा ज़हर है, हमने मुस्कुराके कहा, हमें जल्दी पीना है। "मैं कौन हूँ यह पता चल जाये तो मुझे भी बता देना… —” काफी दिनों से तलाश है मुझे मेरी “—" जितना प्यार तुम्हें अब तक ख़्वाबों में किया है, उससे कहीं ज़्यादा हक़ीक़त में करने का अरमान है...!! देख… Continue reading एहसान रहा इल्ज़ाम लगाने वालों

Shayari

एक आखिरी ख़त लिखने की ख्वाईश थी।

प्रस्तुत शेर मेरे दोस्तों ने मुझे भेजे है जो मुझे काफी पसंद आये । मुझे यकीन है आपको भी ये सभी पसंद आएंगे।    दुनिया फरेब करके हुनरमंद हो गयी..~~* *हम ऐतबार करके गुनाहगार हो गये..~~*   मिजाज* *हमारा भी है* *कुछ - कुछ* *समन्दर* *के* *पानी जैसा..!* *खारे हैं*..... *मगर* *खरे हैं..!!* एक आख़री… Continue reading एक आखिरी ख़त लिखने की ख्वाईश थी।

Shayari

हथेली पर रखकर नसीब …..

ये सभी शेर मेरे  मित्र रिंकू अजमानी जी   की संग्रह से लिए गए है / उम्मीद है आपको पसंद आएंगे /  व्हाट्सएप से जुड़े इस संग्रह पर अक्सर उम्दा नज़्म लिखी जा रही है, मै बहुत ही एहसान मंद हु ग्रूप  अड्मिन विनय सर का जिन्होने मुझे इस ग्रूप से जोड़ा /   1 सुना… Continue reading हथेली पर रखकर नसीब …..

Shayari

जंगली जड़ी बूटी सा हूँ …

.1..कुछ लोगों की मोहब्बत सरकारी होती है , न फाइल आगे बड़ती है और न ही मामला बंद होता है /   2 जगली जड़ी बूटी सा हूँ ,  किसी को ज़हर तो किसी को दवा सा लगता हूँ// 3। रख लो आईने हज़ार तस्सली के लिए , पर सच के लिए तो आखे ही… Continue reading जंगली जड़ी बूटी सा हूँ …

Shayari

हम तो मोहब्बत बेहिसाब ही करेंगे ..

ये सभी शेर हमारे whats app ग्रूप के सदस्यों ने भेजा है, मैं उनका एक कलेक्शन कर आपके लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ , आशा है आप को सभी पसंद आएंगे / मेरे कुछ और एसे ही कलेक्शन है कृपया एक नज़र ज़रूर डालिए और कॉमेंट अवश्य कीजिये  /   1.  मोहब्बत की मिसाल में… Continue reading हम तो मोहब्बत बेहिसाब ही करेंगे ..

Shayari

अब हम और …..

1। धडकनों को कैसे संभालू मै, ये मेरी सुनती ही नहीं जब भी  उसका नाम ज़हन में आता है, ये रुकती ही नहीं / 2 पगली बहुत प्यार से मनाऊँगा तुझे,  एक बार मेरी होकर रूठो तो सही 3 उसके लिए तो मैंने यहाँ तक दुआएं की है, कोई उसे चाहे भी तो बस मेरी… Continue reading अब हम और …..

Shayari

ठिकाना कब्र है …

Click Here to know more of it. 1। ...ठिकाना कब्र है तो कुछ तो कर मुसाफिर  कहते है किसी के घर खाली हाथ नहीं जाते है  2 खुद है उठाना होता है टूटा, थका हुआ बदन अपना  कि जब तक साँस चलती है तो कोई कंधा नहीं देता  मधुशाला की  पंक्तियाँ  मदिरालय जाने को घर से… Continue reading ठिकाना कब्र है …

Shayari

किसी ने कहा है …

1...तेरी मुस्कान से सुधर जाती है तबीयत मेरी , बताओ न तुम इश्क करती हो या इलाज़ 2.ए मौत ज़रा पहले आना गरीब के घर, "कफन" का खर्च दवाओं मे निकाल गया   3। हर मर्ज का इलाज़ नहीं है दवाखाने में , कुछ दर्द चले जाते दोस्तों के मुस्कुराने में // ऐसे ही कुछ… Continue reading किसी ने कहा है …