Shayari

किसी ने कहा है …

1…तेरी मुस्कान से सुधर जाती है तबीयत मेरी ,

बताओ न तुम इश्क करती हो या इलाज़

2.ए मौत ज़रा पहले आना गरीब के घर,

“कफन” का खर्च दवाओं मे निकाल गया  

3। हर मर्ज का इलाज़ नहीं है दवाखाने में ,

कुछ दर्द चले जाते दोस्तों के मुस्कुराने में //

ऐसे ही कुछ चुनिंदा शेर हैं। कृपया  क्लिक कीजिये

हथेली पर रखकर नसीब …..

हम तो मोहब्बत बेहिसाब ही करेंगे ..

तस्वीर बनाओ तो ….

 

 

1 thought on “किसी ने कहा है …”

Comments are closed.